पके खेत सी शादाब लगे!

घर के आंगन मैं भटकती हुई दिन भर की थकन,
रात ढलते ही पके खेत सी शादाब लगे|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply