आज हैं केसर रंग रंगे वन!

आज मैं तारसप्तक के एक प्रमुख कवि स्वर्गीय गिरिजा कुमार माथुर जी की एक रचना शेयर कर रहा हूँ| गिरिजा कुमार माथुर जी को साहित्य अकादमी पुरस्कार सहित अनेक सम्मान एवं पुरस्कार प्राप्त हुए थे| इस कविता में वसंत के सौन्दर्य को बड़े प्रभावी ढंग से चित्रित किया गया है|

लीजिए आज प्रस्तुत है स्वर्गीय गिरिजा कुमार माथुर जी की यह कविता-

आज हैं केसर रंग रंगे वन
रंजित शाम भी फागुन की खिली खिली पीली कली-सी
केसर के वसनों में छिपा तन
सोने की छाँह-सा
बोलती आँखों में
पहले वसन्त के फूल का रंग है।
गोरे कपोलों पे हौले से आ जाती
पहले ही पहले के
रंगीन चुंबन की सी ललाई।
आज हैं केसर रंग रंगे
गृह द्वार नगर वन
जिनके विभिन्न रंगों में है रंग गई
पूनो की चंदन चाँदनी।

जीवन में फिर लौटी मिठास है
गीत की आख़िरी मीठी लकीर-सी
प्यार भी डूबेगा गोरी-सी बाहों में
ओठों में आँखों में
फूलों में डूबे ज्यों
फूल की रेशमी रेशमी छाँहें।
आज हैं केसर रंग रंगे वन।

गिरिजा कुमार माथुर

आज के लिए इतना ही,

नमस्कार|

********

Leave a Reply