सन्नाटों में बोलनेवाला-

मेरे आंगन में आये या तेरे सर पर चोट लगे,
सन्नाटों में बोलनेवाला पत्थर अच्छा लगता है।

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply