सबके अपने-अपने साँचे हैं!

चाहत हो या पूजा सबके अपने-अपने साँचे हैं,
जो मूरत में ढल जाये वो पैकर अच्छा लगता है|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply