हारो न खुद को तुम!

दुनिया न जीत पाओ तो हारो न खुद को तुम,
थोड़ी बहुत तो ज़ेहन में नाराज़गी रहे।

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply