खुशबू सी आ रही है इधर!

खुशबू सी आ रही है इधर ज़ाफ़रान की,
खिडकी खुली है गालिबन उनके मकान की|

गोपालदास ‘नीरज’

Leave a Reply