जमीन पे छत आसमान की!

हारे हुए परिन्दे ज़रा उड़ के देख तो,
आ जायेगी जमीन पे छत आसमान की|

गोपालदास ‘नीरज’

Leave a Reply