रौशनी अपने मकान की!

औरों के घर की धूप उसे क्यूँ पसंद हो
बेची हो जिसने रौशनी अपने मकान की|

गोपालदास ‘नीरज’

Leave a Reply