शुरुआत मेरी दास्तान की!

बुझ जाये सरे आम ही जैसे कोई चिराग,
कुछ यूँ है शुरुआत मेरी दास्तान की|

गोपालदास ‘नीरज’

2 Comments

Leave a Reply