कभी चांदी के क़लम आते हैं!

मुझसे क्या बात लिखानी है कि अब मेरे लिये |
कभी सोने कभी चांदी के क़लम आते हैं ||

बशीर बद्र

Leave a Reply