मगर कैसी हिक़ारत सी!

वो जैसे सर्दियों में गर्म कपड़े दे फ़क़ीरों को |
लबों पे मुस्कुराहट थी मगर कैसी हिक़ारत सी ||

बशीर बद्र

Leave a Reply