सौ अहले करम आते हैं!

दिल वो दरवेश है जो आँख उठाता ही नहीं |
इस के दरवाज़े पे सौ अहले करम आते हैं ||

बशीर बद्र

Leave a Reply