हज़ारों साल की कोई इमारत सी!

उदासी पतझड़ों की शाम ओढ़े रास्ता तकती |
पहाड़ी पर हज़ारों साल की कोई इमारत सी ||

बशीर बद्र

Leave a Reply