कौन जाने कि चाहतो में फ़राज़!

कौन जाने कि चाहतो में फ़राज़,
क्या गंवाया है क्या मिला है मुझे|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply