दरिया में बहा दें यादें!

काश मुमकिन हो कि इक काग़ज़ी कश्ती की तरह,
ख़ुदफरामोशी के दरिया में बहा दें यादें|

अहमद फ़राज़

2 Comments

Leave a Reply