दुःख याद दिला दें यादें!

जिस तरह आज ही बिछड़े हों बिछड़ने वाले,
जैसे इक उम्र के दुःख याद दिला दें यादें|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply