मुझको पढ़ इंसान हूँ मैं!

गीता हूँ कुरआन हूँ मैं,
मुझको पढ़ इंसान हूँ मैं|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply