रिहा होने से डरता है!

अज़ब ये ज़िन्दगी की क़ैद है, दुनिया का हर इन्सां,
रिहाई मांगता है और रिहा होने से डरता है|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply