3 Comments

  1. Reenabist says:

    आईने सक्छ भी कहाँ बोलते हैं

    1. shri.krishna.sharma says:

      इंसान को तसल्ली पाने के लिए कुछ बहाना चाहिए जी।

Leave a Reply