एक दिन बहार गुज़रे!

बैठे हैं रास्ते में दिल का खंडहर सजाकर,
शायद इसी तरफ़ से एक दिन बहार गुज़रे|

मीना कुमारी

Leave a Reply