कोई कोहराम नहीं होता!

दिन डूबे हैं या डूबे बारात लिये कश्ती,
साहिल पे मगर कोई कोहराम नहीं होता|

मीना कुमारी

Leave a Reply