कोई तो पार गुज़रे!

बहती हुई ये नदिया घुलते हुए किनारे,
कोई तो पार उतरे कोई तो पार गुज़रे|

मीना कुमारी

Leave a Reply