जब सच बोलें तब झूठे कहलाए!

हम भी कैसे दीवाने हैं किन लोगों में बैठे हैं
जान पे खेलके जब सच बोलें तब झूठे कहलाए।

राही मासूम रज़ा

Leave a Reply