जाने क्‍या बातें करते हैं!

इतने शोर में दिल से बातें करना है नामुमकिन
जाने क्‍या बातें करते हैं आपस में हमसाए।।

राही मासूम रज़ा

Leave a Reply