यह कड़वा सच बोले कौन!

काली रात के मुँह से टपके, जाने वाली सुबह का जूनून,
सच तो यही है, लेकिन यारों, यह कड़वा सच बोले कौन|

राही मासूम रज़ा

Leave a Reply