उम्मीद क्या ख़ुदा से रहे!

उसके बंदों को देखकर कहिये,
हमको उम्मीद क्या ख़ुदा से रहे|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply