कुछ उसूल थे पहले!

लोग गिरते नहीं थे नज़रों से,
इश्क के कुछ उसूल थे पहले|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply