जो पत्थर हैं, फूल थे पहले!

दिल लगाने की भूल थे पहले,
अब जो पत्थर हैं, फूल थे पहले|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply