फिजूल थे पहले!

तुझसे मिलकर हुए हैं पुरमानी,
चाँद तारे फिजूल थे पहले|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply