रस्तों की धूल थे पहले!

जिनके नामों पे आज रस्ते हैं,
वे ही रस्तों की धूल थे पहले|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply