सूखे बबूल थे पहले!

अन्नदाता हैं अब गुलाबों के,
जितने सूखे बबूल थे पहले|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply