दीप ही दीप धर गया कोई!

मैं अमावस की रात था, मुझमें,
दीप ही दीप धर गया कोई|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply