पत्थरों तक अगर गया कोई!

मूरतें कुछ निकाल ही लाया,
पत्थरों तक अगर गया कोई|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply