मुझसे होकर गुज़र गया कोई!

आम रस्ता नहीं था मैं, फिर भी,
मुझसे होकर गुज़र गया कोई|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply