तेरे घर तक पहुँची!

मैं तो सोया था मगर बारहा तुझसे मिलने,
जिस्म से आँख निकलकर तेरे घर तक पहुँची|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply