मैदान साफ़ है, जानी!

हवा खुद अब के हवा के खिलाफ है, जानी,
दिए जलाओ के मैदान साफ़ है, जानी|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply