बारिशों में पतंगें उड़ाया करो!

ज़िन्दगी क्या है खुद ही समझ जाओगे,
बारिशों में पतंगें उड़ाया करो|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply