मुँह मत लगाया करो!

चांद सूरज कहाँ, अपनी मंज़िल कहाँ,
ऐसे वैसों को मुँह मत लगाया करो|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply