सभी कुछ मुआफ है, जानी!

वो मेरी पीठ में खंज़र उतार सकता है,
के जंग में तो सभी कुछ मुआफ है, जानी|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply