खरे सोने का भाव ऐसा था!

ख़रीदते तो ख़रीदार ख़ुद ही बिक जाते,
तपे हुए खरे सोने का भाव ऐसा था|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply