बहाव ऐसा था!

कोई ठहर न सका मौत के समन्दर तक,
हयात ऐसी नदी थी, बहाव ऐसा था|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply