रख-रखाव ऐसा था!

तमाम जिस्म ही घायल था, घाव ऐसा था,
कोई न जान सका, रख-रखाव ऐसा था|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply