सुभाव ऐसा था!

फ़रेब दे ही गया ‘नूर’ उस नज़र का ख़ुलूस,
फ़रेब खा ही गया मैं, सुभाव ऐसा था|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply