उसको न ऐसे टाल के चल!

कहे जो तुझसे उसे सुन, अमल भी कर उस पर,
ग़ज़ल की बात है उसको न ऐसे टाल के चल।

कुँअर बेचैन

Leave a Reply