अपनी उड़ान में रखना!

चमकते चाँद-सितारों का क्या भरोसा है,
ज़मीं की धूल भी अपनी उड़ान में रखना |

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply