मंज़िल गुमान में रखना!

सफ़र को जब भी किसी दास्तान में रखना,
क़दम यकीन में, मंज़िल गुमान में रखना |

निदा फ़ाज़ली

4 Comments

Leave a Reply