उड़ने को पर चाहिए!

हर सुबह को कोई दोपहर चाहिए,
मैं परिंदा हूं उड़ने को पर चाहिए।

कन्हैयालाल नंदन

2 Comments

Leave a Reply