कूदना, डूब जाना!

मुहब्बत का अंजाम हरदम यही था,
भँवर देखना, कूदना, डूब जाना।

कन्हैयालाल नंदन

Leave a Reply