दो घूँट पानी पिलाना!

नदी की कहानी कभी फिर सुनाना,
मैं प्यासा हूँ दो घूँट पानी पिलाना।

कन्हैयालाल नंदन

Leave a Reply