वो उतनी दूर हो गया!

मिलना था इत्तिफ़ाक़ बिछड़ना नसीब था,
वो उतनी दूर हो गया जितना क़रीब था|

अंजुम रहबर

2 Comments

Leave a Reply